Breaking »
  • Breaking News Will Appear Here

नकद लेनदेन की सीमाएं और सावधानियां

 Narender Dhawan |  2019-01-14T18:16:16+05:30

नकद लेनदेन की सीमाएं और सावधानियां

Author CA Manish Kumar Gupta

mkg.fca@gmail.com (9810771477)

मोदी सरकार नकद लेनदेन को कम करने के लिए कड़ी मेहनत कर रही है ताकि ब्लैकमनी के बनने और चलाये जाने की प्रक्रिया लगातार घटती जाये और इसके लिए सरकार ने निर्धारित सीमा से ऊपर नकद लेनदेन में शामिल लोगों को दंडित करने के लिए आयकर अधिनियम को और शक्तिशाली बनाया गया है यदि आप नकद से प्यार करते हैं जो की भारत में लगभग काफी लोग करते हैं, तो आपको इन 5 प्रकार के लेनदेन और उसके परिणाम के बारे में पता होना चाहिए। नकद लेनदेन पर कुछ दंड और कुछ लाभों पर रोक लगा दी गई है जिसको हमने इस लेख में कवर किया है यह लेख उन नकद लेनदेन को संक्षेप में प्रस्तुत करेगा जिनसे आपको बचना चाहिए।

10,000 रुपये से अधिक नकदी में खर्च पर जुर्माना

यदि आप व्यवसाय या पेशे में हैं, तो आपको एक बार में फ२.10,000/- से अधिक के नकद में खर्च से बचना चाहिए। अगर आपने कोई भी नकद व्यय रु 10,000 से अधिक का किया है तो आप पर कोई सीधा जुर्माना नहीं लगेगा, लेकिन आप इनकम टैक्स इन रिटर्न फाइल करते समय इस खर्च को अपनी इनकम में से घटा कर टैक्स की छूट का लाभ नहीं उठा पाएंगे। अर्थात आय से सभी खर्चों में कटौती के बाद जो लाभ प्राप्त होता है ऐसे खर्चों में से 10,000 से अधिक मूल्य के लिए नकद में किए गए खर्चों में कटौती की अनुमति नहीं है। अप्रत्यक्ष रूप से यह आपके मुनाफे का हिस्सा बनेगा और आपको टैक्स देना होगा।

2 लाख रुपये या अधिक नकद में प्राप्त करने पर जुर्माना

यदि आप एक ही दिन में या एक ही लेनदेन के लिए कई दिनों में एक व्यक्ति से 2,00,000 या अधिक, नकद राशि प्राप्त करते हैं तो नकद प्राप्त राशि के बराबर जुर्माना आपको आयकर विभाग को पेनल्टी के रूप में उतनी ही रकम का नकद भुगतान करना पड़ सकता है। आयकर अधिनियम की धारा 269रळ रुपये में नकद में 2,00,000 या अधिक पारिश्रमिक प्राप्त करने पर भी रोक लगाती है। जुर्माना नकद की राशि के बराबर होगा और आगे आपको वार्षिक आधार पर इन लेनदेन की सूचना देनी होगी। टैक्स डिपार्टमेंट ने प्रमुख दैनिक अखबारों में प्रकाशित विज्ञापनों में भी कहा है कि धारा 269 एसटी का उल्लंघन करने पर नकद राशि प्राप्त करने वाले पर इतनी ही राशि के बराबर जुर्माना लगेगा। लोन के नकद में चुकाने में एक किस्त पर भी प्रतिबंध लागू है, वित्त मंत्रालय की ओर से एक सर्कुलर जारी किया गया। इसमें साफ किया गया है कि नकद भुगतान के मामले में यह सीमा सिर्फ एक ि.कस्त पर लागू है, न कि पूरे लोन की राशि पर

हेल्थ इंश्योरेंस प्रीमियम का नकद भुगतान करने में कोई लाभ नहीं मिलेगा

यदि आप नकद में स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान करते हैं तो आप धारा 80 डी के लाभों का दावा नहीं कर पाएंगे। धारा 80 डी स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम पर कटौती का लाभ देता है, हालांकि यदि आप नकद में किसी भी स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान करते हैं, तो आप लाभ खो देंगे। केवल बैंकिंग चैनलों के माध्यम से स्वास्थ्य बीमा प्रीमियम का भुगतान करने की सलाह दी जाती है।

भूमि और भवन पर

सीमा से अधिक नकद भुगतान पर जुर्माना

यदि आप अचल संपत्ति के हस्तांतरण के लिए 20,000/- रु से अधिक का नकद मेंभुगतान करते हैं तो नकद भुगतान के बराबर का जुर्माना लगाया जाएगा। आयकर की धारा 269रर रुपये से अधिक के भुगतान पर रोक लगाती है। यह खंड न केवल पूर्ण भुगतान पर प्रतिबंध लगाता है, बल्कि किसी भी राशि का भुगतान करता है चाहे वह अग्रिम, जमा या अचल संपत्ति से संबंधित कोई अन्य राशि हो।

पंजीकृत ट्रस्ट या राजनीतिक पार्टी को नकद में भुगतान पर

लाभों में कटौती

आप किसी भी पंजीकृत ट्रस्ट या राजनीतिक दल को 2,000 रुपये से अधिक का दान का भुगतान नहीं करें अन्यथा आप को सेक्शन 80 जी के लाभ नहीं मिल पाएंगे। सेक्शन 80 जी दान पर कटौती प्रदान करती है। यह पंजीकृत ट्रस्ट और राजनीतिक दलों को दान के संदर्भ में है। सरकार का इरादा कैशलेस अर्थव्यवस्था को बढ़ावा देना है और यह नकद लेनदेन को कम करने के लिए हर संभव प्रयास कर रहा है। नकद लेनदेन को ध्वस्त करने के लिएभारी दंड के साथ आयकर अधिनियम को मजबूत किया गया है। आपको इन निर्धारित सीमा के बाहर जाकर नकद लेनदेन से बचने की सलाह दी जाती है अन्यथा आपको उपरोक्त जुर्माना लग सकता है या आपको सबंधित कर छूट से वंचित होना पड़ेगा और अगर किसी ने आपकी शिकायत कर दी तो आप बड़े झंझट में फंस सकते हैं।

नए नियमों के तहत इन जगहों पर 2 लाख नकद लेन-देन की सीमा

लागू नहीं होती है

-क्रेडिट कार्ड बिल भुगतान पर 2 लाख रुपए की नगद लेन-देन

-बैंक प्रतिनिधि द्वारा दी गई राशि

-धारा 269 एसटी के तहत प्री-पेड भुगतान के उत्पाद जारी करने वालों की ओर से एजेंट से प्राप्त रकम

-खुदरा केंद्रों (आउटलेट) से व्हाइट लेबल एटीएम परिचालक की ओर से प्राप्त राशि.

-आयकर कानून, 1961 की धारा (17ए) के तहत कुल आय में शामिल नहीं होने वाली रकम

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top