Breaking »
  • Breaking News Will Appear Here

संपत्ति के लालच में कईयों को उतारा मौत के घाट

 Ritu |  21 Nov 2018 12:17 PM GMT

संपत्ति के लालच में कईयों को उतारा मौत के घाट

पंचकूला। हर किसी के सामने खड़ा होने वाला सवाल आखिर कोई बेटी अपनी ही मां और तीन बच्‍चों को कैसे मौत के घाट उतरवा सकती है। वो भी सिर्फ संपत्ति के लिए, यह समाज का ऐसा सच है जो मानवता को शर्मसार करता हैं। जिसकी बानगी पंचकुला के खटौली गांव में देखने को मिली।

बता दें कि भारत में चंदेल वंश का गौरवशाली इतिहास रहा है। 8वीं से 12वीं शताब्दी तक यमुना और नर्मदा के बीच, बुंदेलखंड तथा उत्तर प्रदेश के दक्षिणी-पश्चिमी भाग पर राज किया था। वह न केवल महान विजेता थे ब‍ल्कि सफल शासक भी थे। उनका योगदान भारतीय इतिहास में अतुलनीय रहा है। उनकी वास्तुकला तथा मूर्तिकला का अदभुत उदाहरण खजुराहो के मंदिर के रूप में हमें दिखाई देता है। लेकिन इसी वंश का ऐसा हष्र होगा और ये दिन भी इस वंश के लोगों को देखने को मिलेगा यह किसी ने कभी नहीं सोचा होगा।

आरोपी बनाई गई महिला ने अपना गुनाह स्वीकार कर लिया हैं। महिला आरोपित ने इस घटना को अंजाम संपत्ति के लालच के कारण करवाया था। इसके लिए उसने सुपारी किलर की मदद ली थी। मारी गई महिला की पहचान 75 वर्षीय राजबाला और उसके दो मासूम पोते (16 वर्षीय दिवांशु, 12 वर्षीय आयुष) और एक पोती (18 वर्षीय ऐश्वर्या) के रूप में हुई है। 16 साल का दिवांशु दसवीं कक्षा का छात्र था और मौली के स्कॉलर स्कूल पढ़ाई करता था।

वंश छठी कक्षा का छात्र था और रायपुर रानी के केवीएम सीनियर सेकेंडरी स्कूल का छात्र था। ऐश्वर्या रायपुर रानी के गर्ल्स कॉलेज में पढ़ाई करती थी। इन सभी की हत्‍या को अंजाम देने वाली का नाम लवली है जो राजबाला की बेटी है।

लवली को बुधवार को अदालत में पेश किया गया। अदालत ने उसे 26 नवंबर तक पुलिस रिमांड पर दे दिया। पंचकूला पुलिस के अनुसार उत्तर प्रदेश से लवली ने दो सुपारी किलर हायर किए थे। उन्हें पुलिस द्वारा गिरफ्तार किया जाना है। इसके अलावा पुलिस को हत्या के लिए प्रयोग किया गया हथियार भी बरामद करना है।

पुलिस का कहना है कि लवली ने उत्तर प्रदेश के दो सुपारी किलर से 15 लाख रुपये में चारों की हत्‍या का सौदा किया था। उसने एडवांस के रूप में एक लाख रुपये एडवांस दिए गए थे। पुलिस ने बताया कि बाइक पर 16 नवंबर की रात को लवली दो सुपारी किलर के साथ अपनी मां राजबाला के घर पहुंची थी। वहां पर वह रात 11:30 बजे से तड़के 4:00 बजे तक रुकी। हत्याएं करने के बाद तीनों बाइक पर वापस लौट गए।

राजबाला के पति राजेंद्र सिंह चंदेल की खटौली और आसपास के गांवों में 80 से 90 एकड़ जमीन एवं काफी संपत्ति है। राजबाला के बेटे उपेंद्र की भी वर्ष 2008 में रहस्‍यमय परिस्थितियों में मौत करीब सात वर्ष पहले हो गई थी। इसको सुसाइड बताया गया था। इसके बाद राजबाला के पति राजेंद्र की भी मौत हो गई थी, जिसके बाद यह प्रापर्टी राजबाला के नाम हो गई थी।

करीब दो वर्ष पहले राजबाला की बहू भी रहस्‍यमय तरीके से गायब हो गई, जिसका आजतक कोई पता नहीं चल सका है। इस हत्‍या की खबर से पूरे इलाके में सनसनी फैल गई। इस पूरी घटना को 16 नवंबर की रात को अंजाम दिया गया। अगले दिन सुबह जब इस हत्‍या का मामला सामने आया तो सबसे पहले शक की सूई राजबाला की बड़ी बेटी लवली और उसके पुत्र की ओर पर गई। पुलिस ने दोनों को पूछताछ के लिए हिरासत में ले लिया।

20 नवंबर को इस मामले का खुलासा पंचकूला के नए पुलिस उपायुक्त कमलदीप गोयल ने किया। बताया जाता है कि इस पूरे मामले में 44 वर्षीय लवली के ससुराल की तरफ से भी कुछ सदस्‍य शामिल हैं। हालांकि उनके नामों का खुलासा फिलहाल पुलिस ने नहीं किया है। वहीं पुलिस ने ये भी साफ कर दिया है कि इस मामले में अभी और खुलासे होने बाकी हैं। वह जल्‍द ही इस मामले में कोई बड़ा खुलासा करेगी।

राजबाला की पंचकूला क्षेत्र में लगभग 100 एकड़ जमीन है। इसके अलावा उनके बैंक खातों में भी एक करोड़ रुपये से अधिक रकम जमा हैl लवली की इसी पर नजर थी, जिसके लिए उसने अपनी मां, भतीजी और भतीजों की हत्‍या करवाई।

लवली ने सुपारी किलर को घर की सभी बारिकियों के बारे में पूरी जानकारी दी थी, जिसके बाद उसने इस हत्‍या को अंजाम दिया। इस घटना के बाद अब परिवार में राजबाला के पति राजेंद्र सिंह वंश की केवल एकमात्र वारिस शैली बची है। पुलिस ने शैली को कड़ी सुरक्षा प्रदान की है।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top