Breaking »
  • Breaking News Will Appear Here

शीला दीक्षित ने दिल्ली सरकार पर बिजली वितरण कंपनियों को फायदा पहुचाने का आरोप लगाया

 Ritu |  10 Jun 2019 7:56 AM GMT

निर्धारित शुल्क (फिक्स्ड चार्ज) के नाम पर सरकार ने करोड़ों रुपये एकत्र किए और उसे बिजली वितरण कंपनियों को दे दिए।’

नई दिल्ली। कांग्रेस की दिल्ली ईकाई ने दिल्ली की आम आदमी पार्टी पर बिजली वितरण कंपनियों को लाभ पहुचाने का आरोप लगाया है दिल्ली ईकाई की शीला दीक्षित ने ​कहा कि दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल नीत 'आप' सरकार किराए के मकानों में रह रहे लोगों को अलग बिजली मीटर लगाने के लिए बहला-फुसला रही है, जिसके बाद दिल्ली विद्युत नियामक आयोग (डीईआरसी) ने बिजली वितरण कंपनियों (डिस्कॉम) को लाभ पहुंचाने के लिए निर्धारित शुल्क बढ़ा दिए हैं।

शीला दीक्षित ने कहा कि अरविंद केजरीवाल ने 'बिजली कंपनियों को फायदा पहुंचाने के लिए लाखों मीटर लगाने का नाटक शुरू किया है।' साथ ही कहा कि 'बिजली के बिल पहले मामूली आते थे। निर्धारित शुल्क (फिक्स्ड चार्ज) के नाम पर सरकार ने करोड़ों रुपये एकत्र किए और उसे बिजली वितरण कंपनियों को दे दिए।' बता दें डीईआरसी राष्ट्रीय राजधानी में बिजली उपभोग दरों को तय करने के लिए सक्षम प्राधिकार है।

बता दे कि दिल्ली कांग्रेस के कार्यकारी अध्यक्ष हारून यूसुफ ने आप सरकार पर 'लोगों को मूर्ख' बनाने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा,'मीटर लगाने के बाद बिजली शुल्क की निर्धारित कीमतों को बढ़ा दिया गया, जिससे गरीबों को काफी परेशानी हो रही। यह पैसा बिजली वितरण कंपनियों के पास जा रहा है।'

यूसुफ ने कहा,'अब जब विधानसभा चुनाव आ रहे हैं तो केजरीवाल कह रहे हैं कि वह डीईआरसी से निर्धारित शुल्क में वृद्धि को वापस लेने के लिए कहेंगे।' लोकसभा चुनाव 2019 में दिल्ली की आम आदमी पार्टी को करारी हार का सामना करना पड़ा था। लोकसभा चुनाव में हार का सामना करने के बाद अब दिल्ली की आम आदमी पार्टी दिल्ली में होने वाले विधानसभा चुनाव की तैयारी में जुट गई हैं।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top