Breaking »
  • Breaking News Will Appear Here

खाने-पीने की चीजों की पैकेजिंग में बदलाव, होंगे ये नियम लागू

 Ritu |  26 Dec 2018 7:52 AM GMT

खाने-पीने की चीजों की पैकेजिंग में बदलाव, होंगे ये नियम लागू

खाने-पीने की चीजों की पैकेजिंग में बदलाव, होंगे ये नियम लागू

नई दिल्ली। अब खाने-पीने की चीजों की पैकेजिंग में शरीर को हानि पहुंचाने वाले खनिज का इस्तेमाल नहीं किया जाएगा। लोगों की सेहत को ध्यान में रखते हुए एफएसएसआई की तरफ से यह कदम उठाया जा रहा है। जिस खनिज से किसी भी फूड की पैकेजिंग की जाएगी, उसकी मात्रा तय की जाएगी। साथ ही रीसाइकल किया गया प्लास्टिक भी पैकिंग में प्रयोग नहीं किया जायेगा। आप दुकान पर कोई खाने-पीने की चीज लेने जाएं और उसकी पैकेजिंग पहले से एकदम अलग हो। ऐसे में आपको आश्चर्य करने की जरूरत नहीं है। और सूत्रों के अनुसार एफएसएसएआई इसको लेकर इसी हफ्ते नोटिफिकेशन जारी कर सकती है। नया नियम लागू होने के बाद खान-पीने की चीजों की पैकेजिंग पूरी तरह बदल जाएगी। एफएसएसआई फूड पैकेजिंग के नए नियमों पर लंबे समय से काम कर रही है। पैकेजिंग के लिए एल्यूमिनियम, ब्रास, कॉपर, प्लास्टिक और टिन का इस्तेमाल किया जाता है। साथ ही नए नियमों के तहत मल्टीलेयर पैकेजिंग की जाएगी,अत: खाने की चीजें सीधे पैकेट के टच में न आ सके। इसके अलावा सेहत का ध्यान रखने के लिए प्रिंटिंग इंक का भी खास ध्यान रखा जाएगा। अभी बीआईएस के पास पैकेजिंग के नियम थे, लेकिन ये अनिवार्य नहीं थे। लेकिन अब एफएसएसआई के नियम अनिवार्य होंगे। बीआईएस पैकेजिंग से ज्यादा लेबलिंग पर ध्यान देता है लेकिन अब एफएसएसआई ने फूड पैकेजिंग को तीन हिस्सों में बांट दिया है। पैकेजिंग, लेबलिंग और क्लेम एंड एडवरटाइजमेंट। जिसमें से पैकेजिंग के नियम आने वाला है। जिस भी खनिज का इस्तेमाल पैकेजिंग में हो रहा है उसकी मात्रा क्या होगा। खाने पीने का कोई भी आइटम किसी ऐसी चीज से पैक नहीं होगा, जो सेहत के लिए नुकसानदायक होगा।

Tags:    

  Similar Posts

Share it
Top