Delhi Up to Date
Breaking News
Multifarious

इस कारण भी होती है याददाश्त कमजोर

Spread the love

(दिल्ली-अप-टु-डेट)  वाशिगंटन। स्वास्थ्य को ठीक रखने के लिए प्रत्येक व्यक्ति को अपनी नींद पूरी लेनी चाहिए, कहा जाता हैं कि नींद न पूरी होने पर व्यक्ति के दिमाग पर भी प्रभाव पड़ने लगता हैं। जी हां जरूरत से ज्यादा नींद और जरूरत से कम नींद दोनों ही व्यक्ति की याददाश्त को कमजोर बनाती हैं और साथ ही सेहत पर भी असर देखने को मिलता हैं। इसलिए प्रत्येक मनुष्य के जीवन में सुकुन भरी नींद का लेना बहुत जरूरी हैं। खराब नींद और अल्जाइमर रोग दोनों ही याददाश्त में गिरावट से जुड़े हैं। प्रत्येक के प्रभावों को अलग करना चुनौतीपूर्ण साबित हुआ है।

कई वर्षों तक बुजुर्ग प्रतिभागियों के एक बड़े समूह में याददाश्त संबंधी कार्यों को ट्रैक करके और अल्जाइमर से संबंधित प्रोटीन के स्तर और नींद के दौरान मस्तिष्क की गतिविधि का विश्लेषण करके शोधकर्ताओं ने महत्वपूर्ण डेटा तैयार किया। यह नींद, अल्जाइमर और याददाश्त संबंधी कार्यों के बीच जटिल संबंधों को सुलझाने में मदद करता है। अध्ययन के निष्कर्ष बढ़ती उम्र के साथ दिमाग तेज रखने की कोशिश में लोगों की मदद कर सकते हैं।

शोधकर्ताओं ने कहा कि हमारे अध्ययन से पता चला है कि कुल नींद के समय में सामान्य अवधि की नींद ऐसी स्थिति है, जहां समय के साथ याददाश्त का प्रदर्शन स्थिर रहता हैं और जरूरत से ज्यादा और कम अवधित में सोने से याददाश्त की स्थिति खराब होती है।

ये भी पढ़े -: अपनी मेहंदी का रंग गहरा करने के लिए अपनाएं ये टिप्स


Spread the love

Related posts

आखिर क्यो जूझ रहे लोग विटामिन डी की कमी से

Delhi Uptodate: Desk-9

बीड़ी कंपनी ने किया सिख धर्म की भावनाओं का अपमान

Harnam Dhawan

कोरोना का टीका लगवाने से न पुरुष होंगे नपुंसक और न महिलाएं होंगी बांझ!

Harnam Dhawan

Leave a Comment