Delhi Up to Date
Breaking News
Delhi-NCR Local News

चुनाव या समझौता ।

Spread the love

सभी नियम कायदों को ताक पर रख करवा लिया चुनाव । खुद को ही घोषित करवाया प्रधान 

नई दिल्ली।। शास्त्री नगर की नीमड़ी धर्मशाला ग्राम सुधार समिति हमेशा से ही विवादों में रही है और इस संस्था का अधिकांश काम विवादित ही रहा है और लगभग हर पदाधिकारी को कोर्ट के चक्कर ही काटने पड़े हैं। मौजूदा हालातों में भी ज्यादा बदलाव नहीं आया है

जब प्रदीप दहिया वर्ष 2016 मे प्रधान नियुक्त हुए हैं तो माना जा रहा था कि इस संस्था में अब सुधार होगा लेकि इस बार तो और भी हद हो गई और प्रदीप दहिया प्रधान पद पर 6 वर्ष वर्षों तक डटे रहे, पद पर रहते हुए ना तो नीमड़ी ग्राम का कोई सुधार कर पाए और ना ही नीमड़ी धर्मशाला की रूपरेखा में कुछ बदलाव ला पाए। हां वह अपने निर्धारित समय से 3 वर्षों के समय से हमें अधिक समय तक अपने पद पर बने रहे और चुनावों को टालते रहें और लगभग 6 वर्षों तक ग्राम सुधार समिति के प्रधान पद पर डटे जरुर रहे ।
जब नीमड़ी गांव में उनके खिलाफ विरोध के स्वर उठने लगे तो उन्होंने आनन-फानन में कहना पड़ा कि वह चुनाव करवाने को तो राजी हैं लेकिन मामला कोर्ट में है लिहाजा जब कोर्ट का आदेश होगा वह चुनाव करवा देगें । कोर्ट में उन्होंने चुनाव समिति के लिए पांच सदस्यों का नाम दिया,जिनमे प्रदीप दहिया, नारायण लाल गुप्ता, बलराज सैनी, विरेंद्र शर्मा व राजेंद्र मिश्रा‌ के नाम शामिल थे।
राजेंद्र मिश्रा ने तो 2 अक्टूबर को होने वाले चुनावों से पहले ही चुनाव समिति के पद से अपना इस्तीफा दे दिया था जो चुनाव में खड़े होने वाले प्रत्याशी के लिए आवश्यक भी था किंतु जिस प्रकार से ग्राम कमेटी के प्रधान पद का चुनाव व अन्य कार्यकारिणी का चुनाव करवाया गया तो करवाया गया और प्रदीप दहिया ने इस प्रकार से खुद को प्रधान नियुक्त घोषित करवा लिया उससे निमड़ी गांव के कई निवासियों ने तो यह तक कह दिया की प्रदीप दहिया व राजेंद्र मिश्रा के बीच किसी समझौते के तहत ही ऐसा हुआ है तभी प्रदीप दहिया प्रधान और राजेंद्र मिश्रा महासचिव पद के लिए निर्वाचित कर दिए गए।

कुल मिलाकर सुधार किसका होगा ओर विकास किसका यह तो आने वाले वक्त में ही पता चलेगा लेकिन जिस प्रकार अलोकतांत्रिक प्रक्रिया के तहत संस्था के प्रधान पद का चुनाव हुआ है वो अवश्य ही संदेह के घेरे में है और स्थानीय निवासियों का कहना है कि जिस प्रकार से 2 अक्टूबर को ग्राम सुधार समिति के प्रधान पद का चुनाव हुआ वह गलत है और इसे लेकर कई ग्रामवासी न्यायालय का दरवाजा खटखटाने का भी मन बना रहे हैं।
कुल मिलाकर एक बार फिर नीमड़ी ग्राम सुधार समिति विवादों में है और इसका फैसला कोर्ट में ही होने वाला है।

 


Spread the love

Related posts

अब से हर शुक्रवार रात 10 बजे से सोमवार सुबह 5 बजे तक UP रहेगी बंद

Harnam Dhawan

दिल्ली मे 10लाख लोग प्रदूषण से गवा रहे जान

Delhi Uptodate: Desk-9

ठंड से ठिठुरी दिल्ली?

Delhi Uptodate: Desk-9

Leave a Comment