Delhi Up to Date
Breaking News
Multifarious Special Stories

परेशानी में ये कदम उठाना, नही हैं चुनौती का सही समाधान

Spread the love

(दिल्ली-अप-टु-डेट) नई दिल्ली। देश में अपराध और सक्रंमण से होने वाली मौतों के साथ—साथ आत्महत्या के मामलें भी तेजी से दर्ज किए जातें हैं। अधिकतर लोगों का आत्महत्या करने के पीछे का कारण अपनी जिंदगी से इतना परेशान हो जाना होता हैं कि उनकी जीनें की इच्छा खत्म हो जाती हैं। लेकिन देश में कम उम्र के लोगों के भी आत्महत्या जैसें मामलें सामनें आतें हैं। कभी—कभी व्यक्ति घर में अधिक कलेश व अपने निजी जीवन से परेशान होकर आत्महत्या करने का फैसला ले लेता हैं लेकिन ऐसी स्थिति में खुद को हानि पहुंचानें से ये साबित होता हैं कि आप पागल या कमजोर हैं।

Alarm sounds over rise in suicide cases in Kenya

कहा जाता हैं कि छोटी—छोटी परेशानी में यदि आपके मन में आत्महत्या जैसे विचार आतें हैं और आप उस पर नियंत्रण नही कर पा रहें तो तुरंत मेडिकल हेल्प लें। क्योकि किसी भी परेशानी में खुद की जान लेना कभी भी आपके सामने आने वाली किसी भी चुनौती का सही समाधान नहीं है। परिस्थितियों को बदलने और दर्द कम होने के लिए खुद को समय दें, इस बीच, जब भी आप के मन में आत्महत्या का विचार आए, तो आपको इन्हें रोकने के लिए अहम कदम उठाने चाहिए।

घातक चीजों को अपने से दूर करें – अगर आपको लगता है कि आपके मन में आत्महत्या जैसे विचार आ रहे हैं, और आपको चिंता है कि कहीं आप कुछ ऐसा न कर गुजरें, तो सबसे पहले ये करें कि अपने आसपास से किसी भी फायरआर्म (पिस्टल-गन), चाकू, या खतरनाक दवाओं से दूर रहें।

निर्देशानुसार दवाएं लें — कभी—कभी एंटी डिप्रेशन दवाएं आत्महत्या के विचार के रिस्क को बढ़ा सकती हैं, खासकर जब आप उन्हें पहली बार लेना शुरू करते हैं। इसलिए जब तक आपका डॉक्टर आपको ऐसा करने के लिए न कहे, तब तक आपको अपनी दवाएं लेना बंद नहीं करना चाहिए और न ही अपनी खुराक में किसी तरह का कोई बदलाव करना चाहिए। यदि आप अचानक अपनी दवाएं लेना बंद कर देते हैं तो आपकी आत्महत्या की भावनाएं और भी बदतर हो सकती हैं। आप विड्राल सिम्टम मतलब सब कुछ छोड़ देने का भी अनुभव कर सकते हैं, कभी कभी वर्तमान समय में ले रहें दवाई का भी साइड इफेक्ट देखनें को मिल सकता हैं, जो आपकी दिमागी हालत पर कुछ प्रभाव डाल सकतें हैं। तो ऐसी स्थिति में अपने डॉक्टर से उसके विकल्प के बारे में बात करें।

ड्रग्स और शराब से बचें – कभी-कभी ड्रग्स या शराब की ओर रुख करना लुभावना हो सकता है। हालांकि, ऐसा करने से आत्महत्या के विचार और भी बदतर हो सकते हैं। जब आप निराश महसूस कर रहे हों या आत्महत्या के बारे में सोच रहे हों, तो ऐसी चीजों को लेने से बचना ही सबसे जरूरी है।

ये भी पढ़े- : 12 सितंबर को होगी NEET परीक्षा


Spread the love

Related posts

फ्री में स्पेस यात्रा करने का है सुनहरा मौका, जानिए सारी प्रक्रिया

Harnam Dhawan

मध्यप्रदेश के झाबुआ जिले में शिवालयों पर लगेगा भक्तों का मेला

Delhi Uptodate: Desk-9

1 अप्रैल से पहले passbook में करवा ले ये बदलाव अन्यथा नहीं कर सकेंगे पैसों का लेनदेन

Delhi Uptodate: Desk-9

Leave a Comment