Delhi Up to Date
Breaking News
Delhi-NCR Health

AIIMS में अगले दो माह तक मरीजों का इलाज होगा प्रभावित और सर्जरी भी होगी कम, इसके पीछे ये है कारण?

दिल्ली-अप-टु-डेट। नई दिल्ली। कोरोना महामारी के कारण दो साल बाद एम्स में सोमवार से डाक्टरों के लिए गर्मी की छुट्टियां शुरू हो रही हैं। इस वजह से अगले दो माह तक फैकल्टी स्तर के 50-50 प्रतिशत डाक्टर एक-एक माह तक अवकाश पर रहेंगे। लिहाजा, 50 प्रतिशत डाक्टर ही ड्यूटी पर मौजूद रहेंगे। एम्स में पहले से भी फैकल्टी स्तर के डाक्टरों की कमी है। इस वजह से मरीजों के इलाज का दारोमदार मुख्य रूप से रेजिडेंट डाक्टरों पर ही रहेगा। इस वजह से मरीजों का इलाज प्रभावित हो सकता है और सर्जरी भी कुछ कम हो सकती हैं।

संस्थान के एक वरिष्ठ डाक्टर ने बताया कि मरीजों के इलाज में ज्यादा परेशानी न हो इसके लिए एम्स प्रशासन ने सभी विभागों को यह निर्देश जारी किया है कि एक बार में 50 प्रतिशत से अधिक डाक्टरों को अवकाश नहीं मिलना चाहिए। 50 प्रतिशत डाक्टर हर हाल में ड्यूटी पर मौजूद होने चाहिएं। गर्मी में हर साल एम्स में फैकल्टी स्तर के सभी डाक्टरों को एक-एक माह का अवकाश मिलता है। वर्ष 2020 में कोरोना का संक्रमण शुरू होने के बाद डाक्टरों की छुट्टियां रद रहीं। पिछले साल भी गर्मी में कोरोना के डेल्टा वायरस का संक्रमण फैला था।

इस वजह से वर्ष 2020 और 2021 में डाक्टरों को गर्मी की छुट्टियां नहीं मिल पाई थीं। इस बार कोरोना का खास संक्रमण नहीं है और स्थिति काफी हद तक नियंत्रित है। इसलिए एम्स प्रशासन ने इस बार दो चरणों में डाक्टरों को गर्मी की छुट्टियां देने का फैसला किया है। पहले चरण में 16 मई से 15 जून तक 50 प्रतिशत फैकल्टी अवकाश पर रहेंगे। इनके ड्यूटी पर लौटने के बाद शेष 50 प्रतिशत डाक्टर 16 जून से 15 जुलाई तक अवकाश पर रह सकेंगे।

खास बात यह है कि कोरोना के दौर में कैंसर, किडनी, लिवर, दिल इत्यादि की गंभीर बीमारियों से पीडि़त मरीजों का इलाज व सर्जरी भी प्रभावित थी। कोरोना की तीसरी लहर के बाद पिछले कुछ माह से ही दूसरी बीमारियों के मरीजों का इलाज व सर्जरी सामान्य हुई है। इस वजह से अस्पतालों में सर्जरी का दबाव भी है। इस बीच गर्मी की लंबी छुट्टी होने से एक बार फिर एम्स में सर्जरी कम हो जाएगी। मरीजों की बढ़ सकती है परेशानी एम्स में दिल्ली के अलावा उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखंड, हरियाणा, हिमाचल प्रदेश सहित कई राज्यों से मरीज इलाज के लिए पहुंचते हैं।

गर्मी की छुट्टी के दौरान यदि पुरानी बीमारियों से पीडि़त मरीज फालोअप जांच के लिए एम्स आ रहे हों तो पहले संबंधित डाक्टर के अस्पताल में उपस्थिति की जानकारी जरूर कर लें। क्योंकि छुट्टी के दौरान डाक्टर के ड्यूटी पर मौजूद नहीं होने से परेशानी का सामना करना पड़ सकता है। उल्लेखनीय है कि एम्स में फैकल्टी स्तर के डाक्टरों के कुल 1131 पद हंै। इनमें से 404 पद खाली पड़े हैं। मौजूदा समय में 727 फैकल्टी हैं।

ये भी पढ़े –: अब बिना इंटरनेट के भी देख सकेंगे यूट्यूब वीडियो
Share this :

Related posts

निर्भया कांड: दोषी मुकेश की याचिका की मंगलवार को सुनवाई

[email protected] Uptodate

इलाज से बेहतर है बचाव : डॉ. संजीव गुलाटी

[email protected] Uptodate

बदहाल सड़क नेताओं और प्रशासन की आंखें बंद

Mannat @Delhi Uptodate